रायपुर, 10 अप्रैल 2020

नोवेल कोरोना वायरस की आड़ में हिंदुस्तान को तबाह करने की साजिश सीमा पार से रची गई है। पश्चिमी चंपारण (बेतिया) के जिलाधिकारी कुंदन कुमार का एसपी को लिखा गया एक पत्र तो यही कह रहा है। डीएम का पत्र सामने आते ही दिल्ली से बिहार तक हड़कंप मच गया है।  डीएम कुंदन कुमार ने एसपी को लिखे खत के जरिए सीमा सुरक्षा बल के 47वीं वाहिनी बटालियन को सूचित किया है कि नेपाल से सीमा पार से कोरोना संक्रमित संदिग्धों को भारत में दाखिल कराया गया है। पत्र के मुताबिक 40-50 कोरोना संदिग्धों को भारत में दाखिल कराया गया है। इन लोगों का मकसद भारत में कोरोना संक्रमण फैलाना है।

वेब रिपोर्टर के पास जिलाधिकारी कुंदन कुमार का वो पत्र है जिसमें उन्होंने नेपाल सीमा पार से कोरोना संकमित संदिग्ध लोगों को भारत में दाखिल कराये जाने का जिक्र किया है।

पत्र के मुताबिक भारत में दाखिल होने वाले सभी मुस्लिम हैं। इन लोगों को जालिम मुखिया नाम के शख्स ने भारत में दाखिल कराया है। जालिम मुखिया हथियार तस्कर है। वह नेपाल के जिला पारसा के सेरवा थाना अंतर्गत जग्रनाथपुर गांव का रहने वाला है। जालिम मुखिया ने एक रणनीति के तहत कोरोना संदिग्ध संक्रमितों को नेपाल बॉर्डर रास्ते से भारत में दाखिल कराया है। पत्र में जिलाधिकारी सीमा सुरक्षा बल से अनुरोध कर रहे हैं कि वे चौकसी बढ़ा दें। साथ ही ये भी कहा गया है कि किसी भी प्रकार की संदिग्ध गतिविधि पर अच्छे से निगरानी रखी जाए।

डीएम के पत्र पर बोले गृह सचिव-
बेतिया के जिलाधिकारी का पत्र सामने आने पर गृह सचिव अमीर सुबानी ने कहा कि सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। गृह मंत्रालय को भी जानकारी दी गयी है। आमिर सुबहानी ने कहा कि किसी को घुसने नहीं दिया जाएगा। मामला नेपाल में है, लेकिन हमने अपने अधिकारियों को अलर्ट कर दिया है। उन्होंने कहा अभी जो सूचना मिली है उसके मुताबिक संदिग्ध घुसे नहीं हैं घुसने की फिराक में हैं।

बेतिया के डीएम के पत्र पर एसएसबी के डीजी ने बताया, ‘हम सख्त लॉकडाउन लागू कर रहे हैं। नेपाल भी ऐसा ही कर रहा है। अधिकारी ने खुफिया इनपुट के आधार पर पत्र भेजा है। हम पूरे मामले को देख रहे हैं।’

पिछले दो दिनों में बिहार में अचानक से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ गई है। अबतक राज्य में 60 लोगों को कोरोना संक्रमण हो चुका है। वहीं 15 लोग ठीक हुए हैं और एक की मौत हुई है। बेतिया के जिलाधिकारी का पत्र सामने आने के बाद राज्य के प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया है।

यहां यह भी गौर करने वाली बात है कि दिल्ली में तबलीगी जमात के लोगों में भारी संख्या में कोरोना संक्रमण मिलने के बाद खुफिया एजेंसियां भी इस मामले की जांच में जुट गई है। इस बात का पता लगाने की कोशिश हो रही है कि क्या कोई विदेशी ताकतें एक धर्म विशेष के लोगों को झुठी बातें बताकर भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलाना चाहता है।

0Shares
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed